ALL बिज़नेस मनोरंजन स्वास्थ्य भोपाल आलेख मध्यप्रदेश शिक्षा
क्लब फैक्टरी के विक्रेताओं की तादाद चार गुना बढ़कर 20,000 पहुंची
December 18, 2019 • SRISHTI SHARMA • बिज़नेस

स्थानीय स्तर पर नियुक्तियों की योजना के साथ भारत के लिए आक्रामक रणनीति बनाई

नयी दिल्ली : अग्रणी ई कॉमर्स प्लेटफॉर्म क्लब फैक्टरी ने दिसंबर, 2019 तक 20,000 से अधिक विक्रेता पंजीकृत किए हैं जो इस साल की दूसरी छमाही में चार गुना वृद्धि है। इस कंपनी ने विक्रेताओं की संख्या में चार गुनी बढ़ोतरी की है और इस साल के लिए 10,000 विक्रेताओं का लक्ष्य हासिल कर लिया है। क्लब फैक्टरी अपनी भारतीय नेतृत्व टीम को भी मजबूत कर रही है और वह अगली तिमाही में प्रमुख कार्यों के लिए स्थानीय स्तर पर नेतृत्वकारी कर्मचारियों की नियुक्ति करेगीभारतीय नेतृत्व वाली टीम, क्लब फैक्टरी द्वारा 2019 में हासिल वृद्धि को और गति प्रदान करेगी

क्लब फैक्टरी ने साल दर साल 600 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि दर्ज की है जिसमें 200 से अधिक विक्रेताओं ने नवंबर में हुई ब्लैक फ्राइडे सेल में प्रतिदिन 15,000 से अधिक ऑर्डर हासिल किए। इनमें से ज्यादातर विक्रेता जून के बाद ही क्लब फैक्टरी से जुड़े हैं और उनकी वृद्धि शून्य से शुरू होकर यहां तक पहुंची हैवर्तमान में क्लब फैक्टरी एसएमई के लिए सबसे बड़ा पोर्टल हैयूज़र्स की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया के बल पर क्लब फैक्टरी 29 नवंबर को सभी वर्गों में शीर्ष डाउनलोड किया गया ऐप रहा

इस घोषणा के बारे में बातचीत करते हुए क्लब फैक्टरी के संस्थापक और सीईओ विन्सेंट लू ने कहा, “क्लब फैक्टरी भारत में जबरदस्त वृद्धि दर्ज कर रहा है और हमें भारतीय नेतृत्व टीम में हमारी रणनीतिक नियुक्ति के साथ वर्ष 2020 में यह गति बरकरार रहने की उम्मीद है। हम 20,000 से अधिक विक्रेताओं द्वारा क्लब फैक्टरी पर किए गए भरोसे से काफी खुश हैं और हमें विश्वास है कि हमारे दृष्टिकोण से भारत में खरीदारों को सर्वोत्तम मूल्यों की पेशकश करने वाले स्थानीय विक्रेताओं के लिए एक अग्रणी बाजार स्थल के तौर पर हमारी स्थिति और मजबूत होगी। विक्रेताओं से किसी तरह का कमीशन नहीं लेने की हमारी रणनीति से न केवल विकास के समान अवसर उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी, बल्कि इससे विक्रेता हमारे प्लेटफॉर्म पर काम करके अधिक मार्जिन हासिल करने में समर्थ होंगे।”

क्लब फैक्टरी ने इस देश में व्यवसाय और उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए सरकार के मेक इन इंडिया कार्यक्रम की तर्ज पर भारत में स्थानीय विनिर्माण को सहयोग करने की नयी पहल की भी घोषणा की है। क्लब फैक्टरी बिक्री बढ़ाने के लिए एक चैट फीचर, गहन बिग डेटा ट्रेंड विश्लेषण, एंड टु एंड सपोर्ट एवं सह विपणन अभियान, सस्ता भुगतान गेटवे एवं लॉजिस्टिक खर्च जैसी सुविधा के साथ विक्रेताओं की मदद करती रही है। वर्तमान में भारत में सभी ऑर्डर स्थानीय विक्रेताओं द्वारा क्रियान्वित किए जाते हैं जिसमें से क्लब फैक्टरी पर 70 प्रतिशत ऑर्डर भारतीय एसएमई द्वारा पूरे किए जाते हैं और इसमें भी भारत में स्थानीय स्तर पर विनिर्मित उत्पादों पर खास जोर होता है

विन्सेंट लू ने कहा, “जीरो कमीशन प्लेटफॉर्म होने के अलावा हम एसएमई विक्रेताओं को सशक्त करने के लिए विभिन्न दृष्टिकोण विकसित कर रहे हैं। अगला फोकस प्रतिदिन 15,000 ऑर्डर के मानक पर पहुंचने के लिए अधिक से अधिक एसएमई विक्रेताओं की मदद करना होगा। हम इसे परिचालन के तौर पर संभव बनाने के लिए प्रौद्योगिकी एवं ढांचागत सुविधाओं पर भारी निवेश कर रहे हैं।"

इस साल अगस्त में क्लब फैक्टरी ने भारत में तेजी से बढ़ रहे ई कॉमर्स बाज़ार में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के प्रयास के तहत 2019 में 10,000 से अधिक विक्रेताओं को अपने साथ जोड़ने की योजना की घोषणा की थी। कंपनी ने लाइफस्टाइल, फैशन एक्सेसरीज़, गैजेट्स और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं होम वर्गों में उत्पादों की पेशकश कर रहे विक्रेताओं के लिए भारत में अपना भर्ती कार्यक्रम खोला

सेंसर टावर के स्टोर इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म के मुताबिक, क्लब फैक्टरी सितंबर और अक्तूबर, 2019 में वैश्विक स्तर पर एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर सबसे अधिक डाउनलोड किया गया शॉपिंग ऐप रहा। क्लब फैक्टरी गूगल प्ले शॉपिंग ऐप वर्ग में प्रथम रैंक हासिल करने के बाद स्नैपडील को पीछे छोड़ते हुए जून, 2019 से भारत में तीसरा सबसे बड़ा शॉपिंग ऐप (एमएयू के संदर्भ में) बन गया