ALL बिज़नेस मनोरंजन स्वास्थ्य भोपाल आलेख मध्यप्रदेश शिक्षा
फिनो पेमेंट्स बैंक ने अव्यस्कों के लिए 'भविष्य बचत खाता लॉन्च किया, बच्चों को बैंकिंग के लिए तैयार करने का लक्ष्य
July 8, 2020 • SRISHTI SHARMA • बिज़नेस

                               

फिनो पेमेंट्स बैंक ने अव्यस्कों के लिए 'भविष्य बचत खाता लॉन्च किया, बच्चों को बैंकिंग के लिए तैयार करने का लक्ष्य

मुंबई / फिनो पेमेंट्स बैंक (एफपीबीएल) ने 10 से 18 साल के बीच के अव्यस्क बच्चों के लिए बचत खाता लॉन्च किया। बच्चों में बचत की आदत लगाने के लिए विकास कर के उन्हें बैंकिंग के लिए तैयार करके लिए 'भविष्य' एक सदस्यता पर आधारित बचत खाता है ।

भविष्य बचत खाता पहले यूपी, बिहार एवं मध्य प्रदेश में बँकद्वार प्रस्तुत किया इसे अन्य राज्यों में लॉन्च किया जाएगा

2011 की जनगणना के मुताबिक भारत में 10 से 19 साल के बच्चों की जनसंख्या 250 मिलियन से ज्यादा है तथा २०२१ मैं इसके और ज्यादा बढ़ने का अनुमान है। इसमें 70 प्रतिशत से ज्यादा जनसंख्या ग्रामीण इलाकों में निवास करती है

फिनो पेमेंट्स बँक के द्वारे इससे मुख्यतः गांवों पर आधारित विशाल अवसर खुल जाएंगे। बैंक के 2.25 लाख प्वाईंट्स के नेटवर्क समवेत 80 प्रतिशत प्वाईंट्स गांवों में स्थित हैं, इसलिए फिनो गांवों में घर-घर जाकर बच्चों के लिए भविष्य बचत खाता खोलने के लिए जागरुकता बढ़ाएगा

इस उत्पाद की जरूरत के बारे में आशीष आहूजा, चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर, फिनो पेमेंट्स बैंक ने कहा, "भारत की विशाल युवा जनसंख्या देश की शक्ति है। अन्य कौशल प्राप्त करने के अलावा बच्चों को छोटी उम्र से ही बैंकिंग का अभ्यस्त होना भी आवश्यक है। आसानी से संचालित होने वाला आधार से जुड़ा खाता माता-पिता को अपने बच्चों में बचत करने की आदत का विकास करने में मददगार होगा। साथ ही भविष्य बचत खाते का उपयोग बच्चों के लिए विभिन्न सरकारी योजनाओं, जैसे स्कॉलरशिप एवं डीबीटी सब्सिडी राशि का लाभ लेने के लिए भी किया जा सकेगा।"

श्री आहूजा ने आगे कहा, "हमें वित्तवर्ष'21 के अंत तक लगभग एक लाख भविष्य बचत खाते खोले जाने का अनुमान है। जब ये बच्चे व्यस्क होंगे, तो वो अपने वित्तीय लक्ष्य ज्यादा बेहतर तरीके से स्थापित कर सकेंगे। इसलिए हमारा प्रयास राष्ट्रीय वित्तीय समावेशन के एजेंडे के अनुरूप है।"

भविष्य बचत खाते के फायदे ये हैं कि इसके लिए खाते में न्यूनतम बैलेंस रखने की कोई शर्त नहीं,सुरक्षा कारणों से अव्यस्क का मोबाईल नंबर माता-पिता के मोबाईल नंबर से अलग होना आवश्यक है। अव्यस्क की 18 साल की आयु पूरी हो जाने के बाद भविष्य बचत खाते को अपडेटेड जानकारी के साथ केवाईसी जमा कराने पर नियमित खाते में तब्दील कर दिया जाएगा।